-->
चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA LYRICS-TONY KAKKAR

चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA LYRICS-TONY KAKKAR

चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA LYRICS-TONY KAKKAR

चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA LYRICS-TONY KAKKAR

चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA LYRICS IS SUNG BY TONY KAKKAR.चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA LYRICS IS WRITTEN & MUSIC COMPOSED BY TONY KAKKAR.


चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA LYRICS INFO:-
SINGER:-TONY KAKKAR
LYRICS:-TONY KAKKAR
MUSIC:-TONY KAKKAR
MUSIC LABEL:- DESI MUSIC FACTORY

चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA LYRICS IN HINDI:-

दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा
दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा
ना समझ हैं वो उन्हें पता नहीं
ना समझ हैं वो उन्हें पता नहीं
के चाँद तुम्हारा है टुकड़ा

दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा
ना समझ हैं वो उन्हें पता नहीं
के चाँद तुम्हारा है टुकड़ा
दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा

घर से ना निकलो तुम कभी भी शाम को
भूल जायेंगे लोग देखना चाँद को
बिना श्रींगार कितना चेहरे पे नूर है
मैखानो में भी नहीं वो
नैनों में सुरूर है
नैनों में सुरूर है

नहीं देखना ताज महल अब
देख लिया तेरा मुखड़ा
ना समझ हैं वो उन्हें पता नहीं
के चाँद तुम्हारा है टुकड़ा
दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा

सूरज की लाली तेरे होठों पे रहती है
नदिया दीवानी तेरे अश्कों से बहती है
संगमरमर सा बदन खुदा ने तराशा है
तुझे क्या पता तेरा समंदर भी प्यासा है
समंदर भी प्यासा है

श्रींगार की नहीं ज़रुरत
कितना सुन्दर मुखड़ा
ना समझ हैं वो उन्हें पता नहीं
के चाँद तुम्हारा है टुकड़ा
दुनिया कहती तुमको चाँद का टुकड़ा

चाँद का टुकड़ा CHAND KA TUKDA MUSIC VIDEO:-

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel